भारत के आदिवासियों का इतिहास जाने / Adivasi History in India

Adivasi History in India : नमस्कार दोस्तों बहुत सारी व्यक्तियों दिमाग में यह प्रश्न उठता है कि आखिरकार आदिवासी लोग कौन है इस प्रश्न के जवाब में अलग-अलग व्यक्तियों की अपनी अलग-अलग चरणों में आदिवासियों के बारे में ही जाने /

भारत के आदिवासियों का इतिहास जाने / Adivasi History in India
भारत के आदिवासियों का इतिहास जाने / Adivasi History in India 

दोस्तो आदिवासी अपने आप में एक गौरवशाली इतिहास हें आदिवासी ऐसे लोग हैं जिन्हें अपने पारंपरिक संस्कृति को बचाए रखा हमें इसे स्वतंत्रता आखिरी और स्वाभिमानी रहे जिन्होंने देश में संस्कृति के बीज बोए यह आदिवासी हित है जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता का बीज बोया आज हम आदिवासियों के बारे में जानिए .

भारत के आदिवासियों का इतिहास जाने / Adivasi History in India
Adivasi History in India NEWS 

हम जानेंगे कि आदिवासी कौन है प्रमुख आदिवासी जन समूह आदिवासी भाषा आदिवासी परंपरा व संस्कृति और आदिवासी व्यक्ति आदिवासियों की समस्याओं का निवारण आदि के बारे में जानेंगे है

भारत के आदिवासियों का इतिहास जाने / Adivasi History in India
Adivasi Flag Photo

आदिवासी कौन है

हेलो दोस्तों आदिवासी शब्द दो शब्दों से मिलकर बना है एक आधी और दूसरा वासी इन शब्दों का अर्थ मूल निवासी होता है / भारत के आदिवासी समजा  की जनसंख्या का 8.6 पर सेंड करीब 10 करोड़ लोग आदिवासी हैं. २०२४ कि जनगणना होंगी तो आदिवासी समाज कि संख्या और बढ सकती हैं  साथ हि आगे जाके भारत का प्रधानमंत्री आदिवासी समाज का हि होंगा ऐसे सुनने को आता हैं . 




आदिवासी लोग किसको भगवा मानते हैं

यह आदिवासी लोग प्रकृति को भगवान मानते हैं प्रकृति की पूजा करते हैं आदिवासी प्रकृति में पाए जाने वाले जीव-जंतु और वह नदिया जंगल नहर खेतों की पूजा करते हैं और प्रकृति को अपनी मां मानते हैं

आदिवासी जी कितनी जातियां है 

आदिवासी प्रकृति से होते ही चीजें लेते हैं जितने उन्हें आवश्यकता होती है आदिवासियों को जनजाति भी कहते हैं और आदिवासी जन समूह भारत में करीब चार सौ इकसठ जन जातियां पाई जाती है जिनकी कई उपजातियां भी होती है मोटे तौर पर हम अधिक जनसंख्या वाली जनजातियों के बारे में जानेंगे गोंड गुण.

यह भी पढे : क्रांतिवीर Tanya Mama Bhill का इतिहास जाने



भारत की सबसे बड़ी जनजाति कोनसी है

भारत की सबसे बड़ी जनजाति है इस जनजाति पांचवी सच चतुर्दिक दौड़ा गोदावरी के तट से होकर मध्य भारत के पहाड़ी क्षेत्रों में फैल गई गोंड जनजाति गोंडी भाषा बोलते हैं जो कि तेलगु कन्नड़ तमिल आदि से संबंधित गुण जनसंख्या का मामले में प्रथम स्थान पर है इनकी संख्या चार करोड़ है अंदर भी अच्छे तरीके से तांत्रिक बीच गोंडवाना में अनेक राजगोंड राजवंशों का ग्रहण और सफलता संस्थापित था घोड़ों का अपना एक प्रदेश था जिसे गोंडवाना कहा जाता था 

आदिवासियों की संस्कृति और रीति रिवाज

भारत के आदिवासियों का इतिहास जाने / Adivasi History in India
भारत के आदिवासियों का इतिहास जाने / Adivasi History in India 

गोंड आदिवासियों की संस्कृति बहरी निराली लिए उन्हें अपनी संस्कृति और रीति रिवाज पर गर्व है गोंड जनजाति के प्रमुख व्यक्तियों रानी दुर्गावती झड़ अकबर के खिलाफ युद्ध किया संघर्ष या जिन्होंने अंग्रेजों का विरोध किया था तब गोंडवाना के राजा शंकर शाह और उनके बेटे को रोग के मुंह बांधकर उड़ा दिया 

आदिवासि संताली जनजाति 

संथाल अपने आप में एक स्वतंत्र जनजाति है इस जनजाति के लोग संताली भाषा बोलते हैं इधर-उधर और अन्य धर्मों में जहां महिलाओं को विशेष सम्मान नहीं दिया जाता वहीं संथाल जनजाति एक ऐसी जनजाति जिसमें चाहे लड़के का जन्म हो अथवा लड़की का दोनों को ही सम्मान की नजरों से देखा जाता है

आदिवासी सभी लोगों को स्वतंत्रता होती है सभी लोग पढ़ लिख सकते हैं महिलाओं को विशेष सम्मान दिया जाता है उन्हें सती प्रथा पर्दा प्रथा और दहेज प्रथा की चंगुल से आजादी मिली होती है सभी लोग शिक्षा ग्रहण कर सकते हैं 

वे निश्चित रूप से सज धजकर समझ सकते हैं वह नौकरी मेहनत-मजदूरी इच्छित कार्य कर सकते हैं वे संताली थे जिन्हें भारत की आजादी का बीज बोया था संतालों ने 1857 में अंग्रेजों के खिलाफ विद्रोह किया साथ-साथ के अन्य आदिवासी जन समूह ने भी 18 57 के पहले ही ब्रिटिशों के खिलाफ विद्रोह का झंडा गाड़ दिया.

भारत के आदिवासियों का इतिहास जाने / Adivasi History in India
World Indigenous Peoples Day Flag

आदिवासी भील जनजाति का इतिहास 

Adivasi Fashion Show Photo 

भील जनजाति का इतिहास बहुत ही गौरवशाली रहा है बेल जनजाति के पास अपने स अतिथि रिवाज और परंपराएं और भाषा है यह जनजाति स्वतंत्रता फ्री रहिए जिन्होंने कभी भी बाहरी असत्य की गुलामी नहीं करी भील जनजाति प्रकृतिपूजक रही है बालों की आबादी मध्य प्रदेश में के यह गुजरात राजस्थान और महाराष्ट्र में है कि देश में एक अलग भिन्न प्रदेश बनाने की मांग पर रहें साथ-साथ भील नर्मदा बिल रेजिमेंट आदि जिलों की मांगे भी हो गए है .


आदिवासी सिंधु घाटी का इतिहास 

सिंधु घाटी सभ्यता से जुड़ा है एक समय जनजाति मिस्र से लेकर श्रीलंका तक फैली थी इन दोनों पाकिस्तान-भारत हिमालई क्षेत्र नेपाल बंगा रोड श्रीलंका में शासन स्थापित किया भीलों ने विश्व प्रसिद्ध हुई एयर राई घूमर मिथिला पेंटिंग और बैरागढ़ की विश्व प्रसिद्ध साड़ियों का विकास किया है विल युद्ध के मैदान में बड़ी चतुर थे भीलों ने हल्दीघाटी युद्ध खानवा का युद्ध अरबों के खिलाफ मुगलों के खिलाफ पोषक और क्योंकि खिलाफ मराठों खिलाफ और ब्रिटिशों के खिलाफ कई युद्ध लड़े और जीत के झंडे भी लहराए



निष्कर्ष 

दोस्तों आपको बता दें कि इतिहासकारों ने आदिवासियों के बारे में बहुत कम ही लिखा है और आदिवासियों ने लिखित परंपरा शायद नहीं अपनाई या फिर उनके लिखित दस्तावेजों को खत्म कर दिया गया और आदिवासियों की परंपरा रहिए उनके गीत संगीत और परंपरा में उनका इतिहास छुपा है जिसे इतिहासकार और अन्य शोधकर्ता आदिवासी इतिहास को सभी के सामने ला रहे हैं.




Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *