भील प्रदेश का नक्शा और जानकारी : Bhil Pradesh map

Bhil Pradesh map
Bhil Pradesh map


भील प्रदेश नक्शे का शीर्षक:  Bhil Pradesh map “भारत का केंद्रीय प्रांत: भील देश का नक्शा” नक्शे में दर्शाए गए क्षेत्र: नक्शे में दर्शाई गई अन्य जानकारी:

  • भीलों द्वारा बसाए गए क्षेत्रों को हल्के रंग में दिखाया गया है।
  • उन मैदानी क्षेत्रों को गहरे रंग में दिखाया गया है जहाँ से भीलों को भगा दिया गया था।
  • नक्शे के नीचे एक पैमाना है जो मीलों में दूरी को दर्शाता है।
  • नक्शे के दाईं ओर एक किंवदंती है जो नक्शे में उपयोग किए गए प्रतीकों को समझाती है।
  • नक्शे के बारे में अतिरिक्त जानकारी:
  • यह नक्शा 1895 में बनाया गया था।
  • यह नक्शा ब्रिटिश भारत के केंद्रीय प्रांतों में भील देश के स्थान को दर्शाता है।
  • यह नक्शा भीलों के विस्थापन है।
  • उनके पारंपरिक क्षेत्रों से बाहर निकाले जाने का एक दृश्य प्रमाण है।

नक्शे के ऐतिहासिक महत्व: ( Bhil Pradesh map )

  • यह नक्शा ब्रिटिश शासन के दौरान आदिवासी समुदायों के विस्थापन है।
  • हाशिए पर डालने का एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है।
  • यह नक्शा भील समुदाय की पहचान है।
  • आत्मनिर्णय के अधिकार के लिए संघर्ष के लिए एक महत्वपूर्ण प्रतीक है।

आज का भील प्रदेश :

  • आज, भील देश एक भौगोलिक इकाई के रूप में मौजूद नहीं है।
  • भील समुदाय भारत के विभिन्न राज्यों में बिखरा हुआ है।
  • भील समुदाय आज भी सामाजिक और आर्थिक हाशिए पर है।
  • भील समुदाय अपनी भाषा, संस्कृति और पहचान को संरक्षित करने के लिए संघर्ष कर रहा है।

भील प्रदेश में कोंसे राज्य आते है।

  1. राजस्थान:
  2. मध्य प्रदेश:
  3. गुजरात:
  4. महाराष्ट्र:

यह नक्शा भील समुदाय के इतिहास और संघर्ष की एक महत्वपूर्ण याद दिलाता है। यह भील समुदाय के अधिकारों और आत्मनिर्णय के लिए संघर्ष के लिए एक महत्वपूर्ण प्रतीक है। भील समुदाय भारत के बड़े – बड़े क्षेत्र में बसे हुए है , भीलों की अधिक आबादी गुजरात, महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश,और राजस्थान में है । भील समुदाय पश्चिम बंगाल और उड़ीसा समेत,आंध्र प्रदेश , कर्नाटक, त्रिपुरा ,जैसे और भी कई राज्यो में बसे है ।

यह भी पढे : भील का इतिहास क्या है? 

भील जनजाति की उपजातियां कौसी है।

  • बॉरी – यह जनजाति पश्चिम बंगाल, में निवास करती है ,
  • बर्दा – यह जनजाति गुजरात, महाराष्ट्र और कर्नाटक में निवास करता है ।
  • गर्दभिल्ल – यह जनजाति पूर्वी ओडिशा और मालवा में निवास करती है
  • वेद्या – यह जनजाति उत्तरभारत की भील जाति में निवास करती है
  • गरासिया – यह जनजाति मुख्यत राजस्थान में बसते है , यह भीलों की एक शाखा है उसमे निवास करती है ।
  • ढोली भील – यह जनजाति भील उपशाखा है ।
  • डुंगरी भील – यह जनजाति उत्तरभारत की भील जाति में निवास करती है
  • डुंगरी गरासिया यह जनजाति ओडिशा की भील जाति में निवास करती है
  • भील ​​पटेलिया – यह जनजाति उत्तरभारत की भील जाति में निवास करती है
  • रावल भील – यह जनजाति मुख्यत राजस्थान में बसते है ,
  • तड़वी और पाडवी भील –  यह जनजाति मुख्यता महाराष्ट्र में निवास करते है ।
  • भागलिया – यह जनजाति उत्तरभारत की भील जाति में निवास करती है
  • भिलाला – यह भील जनजाति, भील आदिवासियों की उपशाखा है ।
  • पावरा – यह भील जनजाति की उपशाखा महाराष्ट्र में निवास करती है ।
  • वासावे – यह भील जनजाति की उपशाखा महाराष्ट्र में निवास करती है ।
  • वसावा – यह भील जनजाति गुजरात,महाराष्ट्र में निवास करती है ।
  • भील मावची – यह भील जनजाति
  • खादिम जाति – यह भील जनजाति राजस्थान के अजमेर में निवास करती हैं

यह भी पढे : भील प्रदेश का झंडा

आदिवासी क्रांतिकारी यो का इतिहास जाने? ( Bhil Pradesh map )

  1. बिरसा मुंडा का जीवन परिचय और इतिहास पढे लिंक 
  2. क्रांतिवीर खाज्या नाईक का जीवन परिचय और इतिहास पढे लिंक 
  3. तंट्या भिल का जीवन परिचय और इतिहास पढे लिंक 
  4. आदिवासी Ulgulan Book पढे लिंक 
  5. आजादी की पहली लड़ाई लड़नेवाले सिधू कान्हू का इतिहास पढ़ें लिंक  
  6. आदिवासी नायक “रामजी गोंड” इतिहास पढे लिंक 
  7. आदिवासियों के मसीहा कार्तिक उरांव का पुरा इतिहास पढे लिंक 

निष्कर्ष

आशा है कि आपको भील प्रदेश का नक्शा और जानकारी के बारे में पढ़कर आनंद आया होगा, लेकिन यदि अगर आपको ऐसा लगता है कोई अन्य जानकारी जोड़ी जानी है, तो कृपया हमें हमारे सोशल मीडिया पर एक टिप्पणी दें। हम इसे जरूर ठीक करेंगे. Bhil Pradesh map  के बारे में यह जानकारी अपने दोस्तों के साथ साझा करें।

#भील_प्रदेश #भील_इतिहास #भील #आदिवासी #आदिवासी_संस्कृति #जोहार #adivasi_samaj #bhilvritant #bhil_history #adiwasi #johar #स्वतंत्रभारत #क्रांतिकारी #सेनानी #इंडियन #भारत #india #भील_प्रदेश #Bhil_Country #भील_देश

Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *